Results 1 to 1 of 1
  1. #1
    Senior Member www.desirulez.net
    Join Date
    Nov 2011
    Posts
    145

    T

    Default |:| यह कैसा मन है /Yah Kaisa Mann Hai |:|

    Follow us on Social Media




    300


    336
    Yah kaisa mann hai ki rukta nahin hai
    Aaapke siwa kahin jhukta nahin hai
    Har baar likhkar milti mujhako tasalli
    Fir tadpe kalam kahe likhta nahin hai

    Aap meri ek kasak hain, batayein kaise
    Mehfil me kare koshish wo bachta nahin hai

    Khulkar na bolna chahoon, dar sataye
    Mere naam sang bulaye yah janchta nahin hai

    Aapki bhi hai zindagi,kuchh raj samaye
    Khud tak jise hai rahna woh bant-ta nahin hai

    Paani ko boond dharti par tapkti hai jab
    Sipi me bane moti pata chalta nahin hai

    Suno na jara aur sine se lag kar mere
    Aapki chah ke siwa dil dhadkta nahin hai.


    य़ह कैसा मन है कि रूकता नहीं है
    आपके सिवा कहीं भी झुकता नहीं है

    हर बार लिखकर मिलती मुझको तसल्ली
    फिर तड़पे कलम कहे, लिखता नहीं है

    आप मेरी एक कसक हैं, बताएं कैसे
    महफिल में करे कोशिश वो बचता नहीं है

    खुलकर न बोलना चाहूँ, डर सताए
    मेरे नाम संग बुलाए यह जंचता नहीं है

    आपकी भी है ज़िंदगी, कुछ राज़ समाए
    खुद तक जिसे है रहना वह बंटता नहीं है

    पानी की बूंद धरती पर टपकती है जब
    सीपी में बने मोती पता चलता नहीं है

    सुनो ना ज़रा और सीने से लगकर मेरे
    आपकी चाह के सिवा दिल धड़कता नहीं है

 

 

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •