Results 1 to 1 of 1
  1. #1
    Senior Member www.desirulez.net
    Join Date
    Nov 2011
    Posts
    145

    T

    Default |:| पलकों की घूंघट में / Palkon Ki Ghoonghat me |:|

    Follow us on Social Media







    Palkon ki ghoonghat me nayno ki panghat me
    Mand-mand muskan liye ek arman liye
    Dhire-dhire yun aap to chale aayiye
    Hothon ki madira ko mujhpar barsayiye

    Meri nigahon me aap bhi badi khas hain
    Man mohoni liye aap bhi vishwash hain
    Ikrar ko aitbar se na bharnayiye
    Khwabon ko khushbu se aaj bhar jayiye

    Honge aapke parwane, diwane to kayi
    Aap par marnewale, aap se jinewale kayi
    Ek sada meri bhi pal bhar sun jayiye
    Doosaron ki dhun sahi shabd mere gayiye

    Yun to hum do deh hain par ek neh hain
    Insaniyat me bhinga anmol sneh hain
    Dil ki dhadkan ki tadpan na bujhayiye
    Aap bhi zindagi yah na bhool jayiye.

    पलकों की घूंघट में नयनों की पनघट में
    मंद-मंद मुस्कान लिए एक अरमान लिए
    धीरे-धीरे यूं आप तो चले आईए
    होठों की मदिरा को मुझपर बरसाईए

    मेरी निगाहों में आप भी बड़ी खास हैं
    मन मोहिनी लिए आप भी विश्वास हैं
    इकरार को एतबार से ना भरमाईए
    ख्वाबों को खुश्बू से आज भर जाईए

    होंगे आपके परवाने, दीवाने तो कई
    आप पर मरनेवाले आपसे जीनेवाले कई
    एक सदा मेरी भी पल भर सुन जाई
    दूसरों की धुन ही सही शब्द मेरे गाईए

    यूं तो हम दो देह हैं पर एक नेह हैं
    इंसानियत में भींगा अनमोल स्नेह हैं
    दिल की धड़कन की तड़पन ना बुझाईए
    आप भी हैं जिंदगी यह न भूल जाईए.

 

 

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •